Kivi Benefit in Hindi | कीवी के 5 जादुई रहस्य

Kivi Benefit In Hindi जी हाँ दोस्तों कीवी नाम तो बिलकुल सुना ही होगा। जिसे खाने से प्लेटलेट्स काउंट बहुत तेज़ी से बढ़ जाता है। खासकर जब हम डेंगू या मलेरिआ की चपेट में होते हैं। तो हमे कहा जाता है की कीवी का सेवन करना चाहिए। आज उसी कीवी के बारे में अपने आज के टॉपिक Kivi Benefit In Hindi कीवी बेनिफिट्स इन हिंदी के अंतर्गत पूरी चर्चा करेंगे।

Kivi Benefit in Hindi

वैसे तो कीवी को विदेशी फल कहा जाता है। चूँकि ये इंडियन Origin का फल नहीं है। इसकी खेती सबसे पहले चीन में शुरू हुई। लेकिन अपने खास गुणों और लाभदायक फायदों के कारण धीरे-धीरे पूरे विश्व में इसकी मांग बढ़ती चली गई। और अब लगभग हर देश इसकी खेती करता है या करना चाहता है। तो आइये जो आज का अपना टॉपिक है Kivi Benefit In Hindi कीवी बेनिफिट्स इन हिंदी इसे आगे बढ़ाते हुए कीवी के बारे में आप को पूरी जानकारी देते हैं।

कीवी फल | Kiwi Fruits 

खाने में बहुत ही स्वादिष्ट कीवी एक खट्टे मीठे स्वाद वाला फल है। कीवी गहरे भूरे रंग का रोयेंदार फल है। कीवी का आकर खड़ा गोलाकार लगभग अंडे की तरह दिखता है कीवी को चाइनीज़ गूजबेरी भी कहा जाता है। कीवी का वैज्ञानिक नाम एक्टीनीडिया डेलीसिओसा) है। कीवी दिखने में बिलकुल चीकू की तरह दीखता है।

कीवी फल

कीवी का गूदा हलके हरे रंग का चमकदार होता है। जिसमे बहुत सारे छोटे छोटे बीज पाए जाते हैं। कीवी महत्त्वपूर्ण विटमिंस और मिनिरल्स से परिपूर्ण होता है। कीवी में विटामिन A , विटमिन C , विटमिन K के साथ साथ पोटासियम और फोलेट मिल कर शरीर के लिए महत्त्वपूर्ण रोग प्रतिरोधक सुरक्षा कवच बनाते हैं। जिससे हमारा शरीर विभिन्न प्रकार के वायरल बीमारियों से सुरक्षित रहता है। आइये कीवी बेनिफिट्स इन हिंदी के बारे में बात करते हुए कीवी से होने वाले चमत्कारिक फायदों के बारे में जानते हैं।

Kivi Benefit in Hindi | कीवी फल के फायदे

विटामिन और पोषक तत्वों से भरपूर | Kivi Benefit In Hindi 

कीवी फल के सबसे उल्लेखनीय और महत्त्वपूर्ण पहलुओं में से एक कीवी की असाधरण पोषक तत्त्वों की पाई जाने वाली पहचान है। विटामिन सी, के, ई और फोलेट से भरपूर, कीवी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट स्रोत के रूप में काम करता है, प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाकर विभिन्न प्रकार के रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त, इन फलों में पोटेशियम, तांबा और मैंगनीज जैसे आवश्यक खनिज होते हैं, जो शरीर के सभी महत्त्वपूर्ण अंगो को सुचारु रूप से कार्य करने में मदत करते हैं अंग कार्य और समग्र कल्याण में योगदान करते हैं।

इसे भी पढ़ें जाने अंजीर को प्राकृतिक वियाग्रा क्योँ कहा जाता है ?

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है | Kivi Benefit In Hindi 

किसी भी फल जिसमे विटामिन स की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है उसमे एंटी ऑक्सीडेंट्स की भी बहुत पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। ठीक उसी तरह कीवी भी अपनी उच्च विटामिन स की पाई जाने वाली पर्याप्त मात्रा के कारण,कीवी अपने प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुणों के लिए प्रसिद्ध है। विटामिन सी श्वेत रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो शरीर को संक्रमण और बीमारियों से बचाने के लिए आवश्यक हैं।

इस प्रकार कीवी फलों का नियमित सेवन एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने की दिशा में एक सक्रिय कदम हो सकता है। कहा जाता है कि डेंगू या मलेरिया कि स्थिति में शरीर प्लेटलेट्स काउंट एक दम कम हो जाता है, ऐसी स्थिति में कीवी के सेवन से प्लेटलेट्स काउंट बहुत तेज़ी से बढ़ता है।

इसे भी पढ़े जाने आंवला को अमृतुल्य एवं आयुर्वेद का मुकुट क्योँ कहा जाता है ?

उच्च रक्त दाब एवं ह्रदय रोग में लाभकारी | Kivi Benefit In Hindi 

अगर आप कीवी को लगातार अपने सेवन में शामिल करते हैं, तो आपका ब्लड प्रेशर कम हो जायेगा, ऐसा नहीं कि अगर आप का ब्लड प्रेशर नार्मल है तब भी कम हो जायेग। अगर बढ़ा है तो कण्ट्रोल में आ जायेगा। कीवी के सेवन से ब्लड में कोलेस्ट्रॉल एवं ट्राइग्लिसराइड लेवल भी घटता है, जिसे खून में गुड कोलेस्ट्रॉल कि मात्रा बढ़ती है, और हमारा हार्ट सुचारु रूप से काम कर पाता है। कीवी के सेवन से एक बहुत बड़ा फायदा ये होता है, कि ये खून में श्वेत रक्त कणिकाओं को आपस में चिपकने से रोकता है। जिससे खून में ब्लड क्लॉटिंग कि संभावना कम होने के साथ साथ हार्ट अटैक कि भी संभावना कम होती है।

इसे भी पढ़ें काली हल्दी इतनी महंगी क्योँ बिकती है ?

पाचन स्वास्थ्य रखने में मदत करता है | Kivi Benefit In Hindi 

कीवी फल आहारीय फाइबर का एक समृद्ध स्रोत हैं, कीवी में दोनों प्रकार का फाइबर घुलनशील और अघुलनशील पाया जाता है जो पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में सहायता करता है। कीवी में पाई जाने वाली फाइबर कि मात्रा कब्ज को रोकने में मदद करती है, नियमित मल त्याग को बढ़ावा देती है और स्वस्थ आंत माइक्रोबायोम का समर्थन करती है। अपने आहार में कीवी को शामिल करने से पाचन बेहतर हो सकता है और आम पाचन संबंधी समस्याएं कम हो सकती हैं।

इसे भी पढ़ें Tikhur | तीखुर पाउडर के 10 फायदे

वजन कम करने में सहायक | Kivi Benefit In Hindi 

जिन लोगों का वजन ज्यादा है जो अपना वजन कम करना चाहते हैं। उनके लिए कीवी फल एक बेहतर स्वादिष्ट और पौष्टिक विकल्प हो सकता है। बेहद कम कैलोरी और अधिक मिनरल्स के साथ उच्च स्तर फाइबर कि मात्रा के साथ,कीवी आपको लंबे समय तक भरा हुआ महसूस करने में मदद कर सकता है, जिससे कुल कैलोरी सेवन कम हो जाता है। कीवी की प्राकृतिक मिठास स्वास्थ्य से समझौता किए बिना मीठे की चाहत को भी पूरी करती है।

कीवी फल भारत में कहां पैदा होता है | Kiwi Ki Kheti Bharat me kahan hoti hai ?

Kivi Benefit In Hindi इन हिंदी विषय के अंतर्गत इसके फायदों के बारे में चर्चा कर रहे थे। आइये अब जानते हैं की कीवी फल भारत में कहां पैदा होता है
दोस्तों जैसा की हम जानते हैं की कीवी एक बहुत ही हाई प्रोटीन, हाई एंटीऑक्सीडेंट्स वाला चमत्कारिक फल है। इस लिए इसकी डिमांड बहुत ज्यादा है।

कीवी फल भारत में कहां पैदा होता है

और इसी लिए कीवी फल बहुत महंगा भी बिकता है। कीवी फल भारत में सभी ठन्डे प्रदेशों में जहाँ ज्यादा से कम और कम से ज्यादा ठंडी पड़ती है। जैसे मध्यवर्ती पर्वतीय इलाकों में। जैसे हिमाचल प्रदेश , अरुणाचल प्रदेश, उत्तराखंड , उत्तर प्रदेश , कश्मीर आदि क्षेत्रों में शुरू हो गई है।

कीवी की खेती | Kiwi Ki Kheti

Kivi Benefit In Hindi टॉपिक में आइये अब जानते कीवी की खेती के लिए क्या-क्या चीजें और कैसे जलवायु की आवश्यकता पड़ती है।

कीवी की खेती के लिए समुद्र तल से 1000 से 1900 मीटर की ऊंचाई या फिर 3000 से 5000 फिट की ऊंचाई पर मध्यवर्तीय पहाड़ी इलाकों में बढ़िया पैदावार होती है। और इसकी खेती भी वहीँ की जाती है। कीवी के लिए ६ से ७ डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान चाहिए होता है। कीवी के खेती के लिए ऐसी जगह ज्यादा उपयुक्त मानी जाती है जहाँ पाला न गिरता हो। कीवी की खेती के लिए सामन्य ph 6 से 7 ph की मिटटी अच्छी मानी जाती है।

कीवी की उन्नत किस्में | Kiwi Ki Unnat Kishmen 

बहुत सारे शोधों के बाद हमारे देश के वैज्ञानिकों ने कीवी की दो किस्मे हेवार्ड Heward और एलिसन Alison को ज्यादा उपयुक्त माना है। कीवी की रोपाई का उपयुक्त कलम विधि वाला तरीका है। जिसमे 1 साल पुराने पौधे की साख को कलम कर के उसमे रूटिंग हार्मोन लगा कर कटिंग कर ली जाती है। रोपाई के लिए कीवी के नर और मादा दोनों पौधों को 9और 1 के Ratio में रोपा जाता है। मतलब 9 पौधे फीमेल के लगाने के बाद 1 पौधे मेल के रोपे जाते हैं। कीवी की पौधों की नरसरी के लिए हिमाचल प्रदेश के कृषि वैज्ञानिक यूनिवर्सिटी से संपर्क कर सकते हैं

कीवी पौधों के रोपाई के समय इस बात का ध्यान रखा जाता है की लाइन से लाइन की दूरी कम से कम 4 मीटर और लाइन में पौधे से पौधे के बीच की दूरी कम से कम 6 मीटर राखी जाती है। कीवी की खेती के लिए सिंचाई की व्यवस्था के साथ साथ जल निकाशी की उत्तम व्यवस्था होनी चाहिए।

उत्तर प्रदेश में कीवी की खेती कहां होती है | Utter Pradesh me Kiwi Ki kheti 

कीवी की खेती मध्यवर्तीय पर्वतीय क्षेत्रों होती है,जहाँ ज्यादातर ठंडा मौसम रहता है। उत्तर प्रदेश में हिमाचल की पहाड़ियों और उत्तराखंड से सटे क्षेत्रों जैसे नैनीताल, गढ़वाल, टिहरी देहरादून जैसे जिलों में बहुत प्रभावी तरीके से की जाती है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में कीवी की खेती कुमाऊं मंडल में बागेश्वर,अल्मोड़ा ,पिथौरागढ़ टिहरी गढ़वाल पिथौरागढ़ और चम्पावत में भी होती है।

उत्तर प्रदेश में कीवी की खेती कहां होती है

एक और अन्य मंडल जो की है गढ़वाल मंडल जिसमे उत्तरकाशी ,रुद्रप्रयाग और चमोली में भी शुरू हो गई है।उत्तर प्रदेश में कीवी की खेती के लिए उत्तर प्रदेश सरकार काफी प्रोत्साहन दे रही है जिसका परिणाम ये हुआ है की जो 2022 में उत्तर प्रदेश में कीवी की खेती 9000 हेक्टेयर में हो रही थी। वही 2023 में बढ़कर लगभग 11000 हेक्टेयर में होने लगी।

निष्कर्ष | Conclusion

आज के अपने टॉपिक Kivi Benefit In Hindi के बारे में आप को पूरी जानकारी। दिए कीवी वायरल बीमारियों की रोकथाम, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए बहुत ही कारगर सिद्ध हुआ है। डेंगू बुखार में जब खून में श्वेत रक्त कणिकाओं की संख्या लगातार घटती है और कभी-कभी इतना घट जाती है कि पीड़ित इंसान कि मृत्यू तक हो जाती है। ऐसे में कीवी के लगातर सेवन मात्र से ही प्लेटलेट्स काउंट तेजी से बढ़ सकता है और मरीज को जल्दी से आराम मिलता है। कीवी को पोषक तत्त्वों से पूर्ण फलों के रूप में जाना जाता है। आज के हमारे इस टॉपिक Kivi Benefit In Hindi में हमने कीवी के विभिन्न फायदों के बारे में विस्तार से जाना। आप को इस ब्लॉग में दी हुई जानकरी कैसे लगी हमे जरूर बताएं। बहुत बहुत धन्यवाद।

Frequently Asked Question

Question 1. 1 दिन में कितना कीवी फल खाना चाहिए?

Answer 1 . १ दिन में २ से ३ कीवी से ज्यादा नहीं खाना चाहिए। जायदा कीवी का सेवन पाचन सम्बंधित समस्याओं को पैदा कर सकता है।

Question 2. कीवी फल महंगा क्यों है?

Answer 2. कीवी फल एक बहुत ही पौष्टिक एवं हाई एंटी ऑक्सीडेंट फल है। जिसके कारण भारतीय बाजार में इसकी बहुत मांग है। चूँकि भारत सबसे बड़ी आबादी वाला देश है। यहाँ पर खपत और उत्पादन में भारी अंतर होने के कारण कीवी को बाहर से आयात करना पड़ता है। जिससे कीवी कि कीमत में भारी बढ़ोत्तरी हो जाती है।

Question 3. कीवी की तासीर क्या होती है?

Answer 3. कीवी कि ताशीर ठंडी होती है। इस लिए ठंडी के बजाय गर्मी में इस का सेवन जायदा फायदेमंद माना गया है।

Question 4. कीवी का पेड़ कहाँ मिलेगा?

Answer . 4 भारत में कीवी की खेती जयादातर मध्यवर्ती पहाड़ी इलाकों जैसे हिमांचल प्रदेश , उत्तराखंड ,उत्तर प्रदेश ,अरुणांचल प्रदेश में होती है। कीवी के पौधे के लिए आप हिमांचल प्रदेश के कृषि विश्वविद्यालय से संपर्क कर सकते हैं।

Question 5. क्या कीवी खून बढ़ाता है?

Answer 5.कीवी एक हाई एंटी ऑक्सीडेंट के गुणों वाला फल है। जो बुखार ,डेंगू  मलेरिआ जैसे वायरल एवं खतरनाक बुखार के हो जाने पर रक्त में श्वेत रक्त कणिकाओं के बढ़ोत्तरी में विशेष योगदान देता है , जिससे खून में प्लेटलेट कि मात्रा बढ़ जाती है।

 

 

Sharing Is Caring:
Social

Leave a Comment

Import